MyMandir hindu calendar, festivals date time

mymandir hindu festivals, hindu panchang and muhurat, online hindu calendar and bengali calendar.

Wednesday, October 10, 2018

2047 शरद पूर्णिमा तारीख व समय भारतीय समय अनुसार, 2047 शरद पूर्णिमा हिंदी कैलेंडर

2047 शरद पूर्णिमा तारीख व समय भारतीय समय अनुसार, 2047 शरद पूर्णिमा हिंदी कैलेंडर, 2047 में शरद पूर्णिमा त्यौहार के सभी तारीख व समय, पूजा विधि, शरद पूर्णिमा पूजा मंत्र।
2047 शरद पूर्णिमा तारीख व समय भारतीय समय अनुसार
'शरद पूर्णिमा' हिन्दुओं का प्रसिद्द त्यौहार है। शरद पूर्णिमा, जिसे कोजागरी पूर्णिमा या रास पूर्णिमा भी कहते हैं; हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन मास की पूर्णिमा को कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि माता लक्ष्मी का जन्म शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। इसलिए देश के कई हिस्सों में शरद पूर्णिमा को लक्ष्मी पूजन किया जाता है। शरद पूर्णिमा को कोजागौरी लोक्खी (देवी लक्ष्मी) की पूजा की जाती है। शरद पूर्णिमा के दिन सायंकाल लक्ष्मी पूजन होता है। नवरात्र में मां दुर्गा की स्तुति के बाद अगले वर्ष आर्थिक सुदृढ़ता की कामना के लिए शरद पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की पूजा होती है।

इस साल शरद पूर्णिमा के तारीख :
3 अक्टूबर 2047
गुरूवार

मां लक्ष्मी को पांच तरह के फल व् सब्जियों के साथ नारियल भी अर्पित किया जाता है। मंदिरों में भी विशेष पूजा-अर्चना होती है। पूजा में लक्ष्मीजी की प्रतिमा के अलावा कलश, धूप, दुर्वा, कमल का पुष्प, हर्तकी, कौड़ी, आरी (छोटा सूपड़ा), धान, सिंदूर व नारियल के लड्डू प्रमुख होते हैं। जहां तक बात पूजन विधि की है तो इसमें रंगोली और उल्लू ध्वनि का विशेष स्थान है। जो लोग शरद पूर्णिमा के दिन रात में जाग रहे होते हैं उन्हें देवी लक्ष्मी धन प्रदान करती है। शरद पूर्णिमा के दिन शाम के समय चन्द्रोदय होने पर चांदी, सोने या मिट्टी के दीपक जलाने चाहिए। इस दिन घी और चीनी से बनी खीर चन्द्रमा की चांदनी में रखनी चाहिए। जब रात्रि का एक पहर बीत जाए तो यह भोग लक्ष्मी जी को अर्पित कर देना चाहिए। मान्यता है कि इस दिन विधिपूर्वक व्रत करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।